सोमवार, 19 अप्रैल 2010

...प्रेम को

हुए नयन बन्द
टपके मधु बिन्दु
अधर पर अधर
और मधुर
हंसी
लाज घूंघट
झांक गई भाग
दसन अधर
मन सन सन
हाथ बरज हाथ
न करो स्पर्श
काम कुम्भ
हाथ झिटको नहीं !
बस रखो वहीं
सुख सुख
गलबहियां क्या खूब !
छू रहीं अनछुओं को
तार रहीं
अस्पृश्य को
प्रेम को।

9 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही सुंदर लगी आप की यह कविता
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  2. कोई शब्द अतिरिक्त नहीं,
    भाव कहीं कोई रिक्त नहीं,
    फिर कैसे कोई बोल रहा था,
    हृदय प्रेम से तिक्त नहीं ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. ऐसी कालजयी रचनाओं पर टिप्पणियों का अभाव सालता है ! यहीं हिन्दी ब्लागिंग की******जाती है !

    उत्तर देंहटाएं
  4. हिंदी ब्लॉग्गिंग की **** तो ठीक. पर ऐसी रचना पर एक इसी तरह की कटीली तस्वीर भी तो होनी चाहिए :)

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह, श्रृंगार रस से ओतप्रोत कविता.. और अभिषेक से सहमत.. :)

    उत्तर देंहटाएं