गुरुवार, 29 अप्रैल 2010

ज़ुनूँ का शौक

कौन कहता है आसमाँ में नहीं होते सुराख
ग़ौर से देखिए हमने भी कुछ बनाए हैं ।
नज़र भटकती नहीं किनारों की महफिल पर
ज़ुनूँ का शौक तो मझधार की बलाएं हैं। 
___________________________

स्पष्ट है कि पहली पंक्ति दुष्यंत से प्रेरित है। पहली दो पंक्तियों का संशोधन अमरेन्द्र जी ने किया है।  अंतिम दो पंक्तियों को आचार्य जी ने पास कर दिया :) ;) 
 जाने क्यों न तो इनके पहले कुछ रचा जा रहा और न बाद में। जैसा है प्रस्तुत है। 

11 टिप्‍पणियां:

  1. जब आपने मेरे ब्लॉग पर लिखा कि आपने भी आज चार पंक्तियाँ पोस्ट की है तो मन किया चलो देखूं की किसकी चार पंक्तियों में ज्यादा दम है, निसंदेह आपने बाजी मार ली

    उत्तर देंहटाएं
  2. हाँ हाँ आप भी तो यही दिखे हैं -मझदार में -एक से भले दो ?

    उत्तर देंहटाएं
  3. इतना ही पूरा है महाराज!! बहुत उम्दा!

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह वाह जी ज्बाब नही बहुत सुंदर, धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही सुन्दर बनी है आपकी कविता...
    चार पंक्तियों में चार किताबें समाई लगतीं हैं...
    धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही सुन्दर बनी है आपकी कविता...
    चार पंक्तियों में चार किताबें समाई लगतीं हैं...
    धन्यवाद..

    उत्तर देंहटाएं
  7. @ जुनूँ का शौक तो मझधार की बलाएँ है ...
    गजबे - गजब ...

    कश्तियाँ जो किनारे पर डूब जाया करती हैं
    क्या वे भी साहिल की तमन्ना लिए फिरती हैं
    किनारों ने ही भटकाया जिनको तमाम उम्र
    कहाँ मझधारों की बलाएँ लिया करती हैं....

    उत्तर देंहटाएं
  8. एक शेर याद आ रहा है ---
    '' कश्तियाँ यूँ भी डूब जातीं हैं
    नाखुदा किसलिए डराते हो | ''

    उत्तर देंहटाएं
  9. कौन कहता है मुकम्मल नहीं हैं ये मिसरे
    इनमें दो-चार मुकम्मल गजल समाए है।
    नज़र भटकती नहीं मेरी मीर गालिब पर
    मन मेरा आज इन्हीं लहरों पे ललचाए है।

    उत्तर देंहटाएं