रविवार, 4 अप्रैल 2010

हलचल - बस यूँ ही

तुम आओ तो न बात बने जाओ तो न बात बने
रहो अपने घर ही, मिलने मिलाने की जो बात बने।


हुक्का ए अवध, बनारस पान गुल कन्द मिष्ठान्न
सूरत नहीं सुरत नहीं, दिल ही न मिले क्या बात बने


बदल बदल जागते रहे रात भर करवटों के पहलू
सोचा किए तुम्हारे अंग हों तो नींद सी कुछ बात बने


चुरा कर शाम से दो पल लाए तनहा इस अँधियारे में
सबेरे सबेरे दिए गलबहिंया मन्दिर चलो तो बात बने।

14 टिप्‍पणियां:

  1. ग़ज़ब की कविता ... कोई बार सोचता हूँ इतना अच्छा कैसे लिखा जाता है .

    उत्तर देंहटाएं
  2. गजब का शायराना अन्दाज है...!
    कोई क्यों न मर मिटे..!
    आभार..!

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस सुंदर रचना को साझा करने के लिए आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  4. तबियत तर हुई नहीं पूरी तरह
    कुछ जगजगाओ तो बात बने

    उत्तर देंहटाएं
  5. NA JANE KYUN HE HAL CHAL

    achi kavita he

    man bh gai
    http://kavyawani.blogspot.com/


    shekhar kumawat

    उत्तर देंहटाएं
  6. चुरा कर शाम से दो पल लाए तनहा इस अँधियारे में
    सबेरे सबेरे दिए गलबहिंया मन्दिर चलो तो बात बने ..

    वाह वाह ..... कुछ कुछ ख़ुसरो अंदाज़ की रचना ..
    बहुत अच्छा है आपका ये अंदाज़ ..

    उत्तर देंहटाएं
  7. ...तो बात बने ..बने क्या बात जहाँ बात बनाए न बने ...
    रहो अपने घर ही ...फिर वह अभिसारिका क्योकर हुयी गिरिजेश भैया ?

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत अच्छी प्रस्तुति। सादर अभिवादन।

    उत्तर देंहटाएं
  9. अब आप गजलियाने लगे हैं !
    '' मयखाना-ए-रिफार्म की चिकनी जमीन पर ,
    वाइज का खानदान भी आकर फिसल गया | ''
    ( फिलहाल शायर का नाम नहीं याद आ रहा है )

    उत्तर देंहटाएं
  10. हुक्का ए अवध, बनारस पान गुल कन्द मिष्ठान्न
    सूरत नहीं सुरत नहीं, दिल ही न मिले क्या बात बने.....

    बात बन गयी जी .....और बहुत अच्छी बनी

    उत्तर देंहटाएं