बुधवार, 8 सितंबर 2010

टिप्पणी नहीं चाहिए। No comments please!

चलो आज सपने बुनें -
 चेताते मस्तिष्कों को
बन्द कर आलमारी में,
अनावृत्त हो दिगम्बर
चलो सपनों में रंग भरें।

मूर्खताएँ हसीन हैं
न खुश न कोई गमगीन है।
बेहिसाब नहाई तिजहर में
चलो सड़क पर खेलें -
इक्कुड़ दुक्कुड़
आइस पाइस।
चलो किसी राहगीर को
यूँ ही चिढ़ाते भाग चलें।

छ्न्द में कुछ वर्ण अधिक हैं
कुछ मात्राएँ कम हैं।
चलो यूँ करें
कविता फाड़ दें
टुकड़े गिलास में फेंट दें
फिर जमाएँ
निकाल कर एक एक अक्षर।
फिर कोई सीरियल देख लें
डायलॉग ऐसे ही तो बनते हैं!

अच्छा ऐसा करते हैं
आज के अखबार में केवल
विज्ञापन पढ़ते हैं
सभी विज्ञापन।
तुम स्टॉप वाच चालू करो
देखते हैं कौन पहले खत्म करता है?
"अबे, खत्म होने को कौन सर्टिफाई करेगा?"
"कहना ही मान लिया जाएगा।"
"ये सब क्या है?
ये बकबक क्यों कर रहे हो।"
"मुझे कुछ भुलाना है -
- घूरे पर फेंकी गई नवजात कन्या।
- बलात्कार के बाद मार दी गई
  आई सी यू में भर्ती लड़की।
- पंचायत की आँख सेंकने को
  न्याय करने को
  उघार दी गई औरत।
- खुद को बेंचने के बाद
  जाने क्या बचाने को
  ऊँचे फ्लैट से कूद गई युवती।
- ईश निन्दा के आरोप में
  हाथ कटाने वाला इंसान ..."
"भोले हो!
भुलाने से क्या होगा?"

"कुछ नहीं। कुछ भी नहीं। 
लेकिन 
सपने बचेंगे
रंग भरेंगे
खेलेंगे
चिढ़ाएँगे 
 सीरियल देखेंगे ... 

मैं बच तो जाऊँगा।
क्या यह कम है?"
"तुम्हारी तबियत ठीक नहीं है।"

चलो! सिगरेट पी आते हैं।
बेहतर है यह काम
कहीं माचिस लगाने से।

"तुम पागल हो।"

31 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लंबी कविताओं की याद आ गयी...!


    टिप्पणी नही कर रहा हूँ.!

    उत्तर देंहटाएं
  2. मैं भी टिपण्णी नहीं कर रहा हूँ....

    कविता बहुते अच्छी लगी...

    उत्तर देंहटाएं
  3. .
    .
    .
    नहीं चाहिये, लीजिये बिना दिये ही जा रहे हैं।

    आभार! (यह तो ले ही लीजिये...प्लीज)


    ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. काहे नहीं टिपियायेंगे...

    ये सारे जख्म
    भुलाने से भुलाये तो नहीं जायेंगे ...
    मगर ...
    हम जो गायेंगे , गुनगुनायेंगे ,
    किसी दिल में तो आस जगा जायेंगे ...
    इसके बाद भी जीवन है ...
    अँधेरे में एक किरण रौशनी सी
    राजा के महल में से आती उस रौशनी सा
    जिससे उस बूढ़े ने पूरी रात ठण्ड में ठिठुरते
    ठन्डे पानी के बीच काट दी थी ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. वीर तुम बढे चलो ...धीर तुम बढे चलो ..सामने पहाड़ हो ..सिंह की दहाड़ हो
    तुम कभी रुको नहीं तुम कभी थको नहीं ..टिप्पणी या नो टिप्पणी !

    उत्तर देंहटाएं
  6. सार्थक और सराहनीय प्रस्तुती ,टिपण्णी तो हर ब्लॉग पढने वाला करता है कोई लिखकर कोई बिना लिखे ..लिखने से (लेखक)आपको भी पता चलता है और नहीं लिखने से आपको(लेखक) पता नहीं चलता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. टिप्पणी नहीं चाहिए। No comments please!

    ""तुम पागल हो।""

    :) :)

    उत्तर देंहटाएं
  9. यह टिप्पणी नहीं है...

    चलो सिगरेट पी ही लेते हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  10. कविता तो आपने अच्छी लिखी है, मगर टिपण्णी नहीं करूँगा, आप चाहे कुछ भी कहो.

    उत्तर देंहटाएं
  11. न हम लेते हैं टिप्पणी न देते हैं...
    कौन जाने कब, कौन, कहाँ, कैसे, क्यूँ और काहे , वापिस माँग लेवे...

    इस हेतू ...न उधो का लेना न माधो का देना ...ई ब्लॉग जगत हमको बहुत कुछ सीखा गया है...आप भी सीख रहे हैं ऐसा बुझाता है...

    :):)

    हाँ नहीं तो...

    उत्तर देंहटाएं
  12. अच्छा ठीक है टिपण्णी नहीं चाहिए तो इसे हमारे ब्लॉग पर आकर लौटा दीजिये...
    कैसी रही :)

    उत्तर देंहटाएं
  13. आप की रचना 10 सितम्बर, शुक्रवार के चर्चा मंच के लिए ली जा रही है, कृप्या नीचे दिए लिंक पर आ कर अपनी टिप्पणियाँ और सुझाव देकर हमें अनुगृहीत करें.
    http://charchamanch.blogspot.com


    आभार

    अनामिका

    उत्तर देंहटाएं
  14. टिप्पणी के प्रति ऐसा काव्यात्मक वैराग्य पहली बार देख रहा हूँ !

    लग रहा है कि अधूरे प्रेमपत्र के विवेकानंद यहाँ अनासक्त बना रहे हैं !

    बाकी ब्लाग्बुड वैरागी न बनाए तो समझिये कुछ सीखा ही नहीं ! हमहूँ तो उतान हैं ! आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  15. टिप्पणी नहीं..पुष्प अर्पण समझें इसे..

    उत्तर देंहटाएं
  16. घूरे पर फेंकी गई नवजात कन्या।
    - बलात्कार के बाद मार दी गई
    आई सी यू में भर्ती लड़की।
    - पंचायत की आँख सेंकने को
    न्याय करने को
    उघार दी गई औरत।
    - खुद को बेंचने के बाद
    जाने क्या बचाने को
    ऊँचे फ्लैट से कूद गई युवती।
    - ईश निन्दा के आरोप में
    हाथ कटाने वाला इंसान ..."
    "भोले हो!
    भुलाने से क्या होगा?

    संवेदनशील अभिव्यक्ति ....क्या इतनी संवेदनाएं भुलाई जा सकती हैं ?

    उत्तर देंहटाएं

  17. बेहतरीन पोस्ट लेखन के बधाई !

    आशा है कि अपने सार्थक लेखन से,आप इसी तरह, ब्लाग जगत को समृद्ध करेंगे।

    आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है-पधारें

    उत्तर देंहटाएं
  18. कैसे नहीं चाहिए ......हम कौन से आम आदमी हैं जो आपने कहा और मान लिया ..एक हिंदी ब्लॉगर होने के नाते हमारा ये पहला और आखिरी भी परम कर्तव्य है कि ..........हें हें हें ..टिप्पणी जरूर करें । चलिए मारिए गोली इसे ।

    रचना अच्छी लगी ...लगता है इन दिनों आलस थोडा कम हुआ है...........बने रहिए

    उत्तर देंहटाएं
  19. aise pagalon kee hee to kamee hai.man hota hai, main bhee thoda pagalaa jaaoon aur jab koi pagala jaataa hai to kisee kee baat nahee sunata hai. tippadee naheen chahiye tab bhee tippadee deta hai. vahee kaam to kar raha hoon. mujhe paagal hee rahane do ki ham paagal hee achchhe hain. aap kaa pagalpan pasand aayaa.

    उत्तर देंहटाएं
  20. tum pagal ho...
    main bhi pagal hoon,
    bas isiliye, ek pagal ne kaha "tippani nahi chahiye"
    dusre pagal ne kaha

    "pagalpanti bhi zaroori hai" to tippani bhi zaroori hai.

    ek sunder prastuti, bas padhkar bhool jata kash...
    par pata nahi, ek bar main itni batein koi kaise bhula sakta hai... sach main pata nahi.

    उत्तर देंहटाएं