सोमवार, 5 अप्रैल 2010

इबादत

ज़र्रा ज़र्रा है खुदाई नूर से रोशन 

हम इबादत में आँखें मूँदे बैठे हैं। 
 

13 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब। इसीलिए तो हम आंखें खुली रखकर इबादत करते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह,इन दो लाइनों में सब कुछ समाहित कर दिया.

    उत्तर देंहटाएं
  3. अरे वाह..!!!
    बड़ी खूबसूरत पंक्तियाँ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. हम इबादत में आँखें मूँदे बैठे हैं।

    बहुत खूब !

    उत्तर देंहटाएं
  5. एक बन्द याद आ गयी...
    "दिल ने इक ईंट से तामील किया ताजमहल
    तूने इक बात कही लाख फसाने निकले..!"
    आभार..!

    उत्तर देंहटाएं
  6. लीजिये हम भी इबादती-ठोंक शेर-वा रहे हैं ---
    '' जब इबादत में आँख ज़रा ज़रा खुली रहे ,
    तब इबादत का लुत्फ़ और भी नूरानी है | ''
    -------------- तन्मनिया-चितवन को तो आप बखूबी जानते ही हैं न !

    उत्तर देंहटाएं
  7. ज़र्रे-ज़र्रे से ही है ख़ुद ख़ुदा रौशन
    ख़ुदाई गफ़लत में आंखें गंवा बैठे हैं....

    वाह..क्या तुकबंदी है...
    बेहतर विचार...

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह वाह जी हमीं मन की आंखे बन्द किये रहते है, बहुत सुंदर शेर आप का धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं