बुधवार, 17 मार्च 2010

सापेक्ष दौर

मेरे कुकर्मों की निन्दा न करो
मेरे कुकर्म निम्नतर हैं
मेरे कुकर्म तुम्हें स्वीकार्य होने चाहिए:
उसने बलात्कार किया - तुम चुप रहे
उसने घोटाला किया - तुम चुप रहे
उसने देश को समझौते के नीचे दफन कर दिया - तुम चुप रहे
आज मेरे निम्नतर कुकर्म पर
तुम इतने प्रगल्भ क्यों हो?
तुम पक्षपाती हो
तुम उसके साथी हो
तुम्हारे मन में चोर है -
तुम्हें याद दिलाता हूँ
तुम्हारी कसौटी ।
तुम्हें दुनिया में हो रहे
हर कुकर्म , हर अत्याचार, हर घपले
से गुजरना होगा
उन पर लिखना होगा -
इसके बाद ही तुम लिख सकते हो मेरे स्याह कर्म
कराह सकते हो
मेरे कुकर्मों की तपिश से झुलसते हुए -
बेहतर है चुप रहो जैसे पहले रहे थे
तुम्हारा मौन  तुम्हारा कवच है
गारंटी है
कि
तुम निरपेक्ष हो इस सापेक्ष दौर में -
बोलने पर तुम्हें सफाई देनी होगी :
उसने बलात्कार किया - तुम चुप रहे
उसने घोटाला किया - तुम चुप रहे
उसने देश को समझौते के नीचे दफन कर दिया - तुम चुप रहे
क्यों ? 
.. अब देखो न तुम्हें इस 'क्यों' पर टाँग 
मैंने अपने पग बढ़ा दिए हैं
एक और कुकर्म के पथ पर - 
उम्मीद है कि टँगे हुए तुम 
चुप रहोगे। 

8 टिप्‍पणियां:

  1. बेहतर है चुप रहो जैसे पहले रहे थे
    तुम्हारा मौन तुम्हारा कवच है
    गारंटी है
    कि
    तुम निरपेक्ष हो इस सापेक्ष दौर में -
    बोलने पर तुम्हें सफाई देनी होगी :

    -बिल्कुल सही कहा!! उम्दा रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  2. तुम्हें दुनिया में हो रहे
    हर कुकर्म , हर अत्याचार, हर घपले
    से गुजरना होगा
    उन पर लिखना होगा -
    इसके बाद ही तुम लिख सकते हो मेरे स्याह कर्म
    कराह सकते हो
    मेरे कुकर्मों की तपिश से झुलसते हुए -
    बेहतर है चुप रहो जैसे पहले रहे थे
    तुम्हारा मौन तुम्हारा कवच है
    गारंटी है
    कि
    तुम निरपेक्ष हो इस सापेक्ष दौर में -
    बोलने पर तुम्हें सफाई देनी होगी :

    काश की इन सेकुलरों और ब्लॉगजगत पर मौजूद इन पैगम्बर के दूतो के पल्ले भी कुछ पड़ता इन पंक्तियों में से !

    उत्तर देंहटाएं
  3. अब जब आप जबरदस्ती चुप कराने पर तुल ही गए हैं तो लो चुप ही हो जाते हैं वैसे भी हम पहले ही कहाँ बोलते थे -अब आप अपने हैं तो आगाह करना धर्म समझा !

    उत्तर देंहटाएं
  4. यह चुप्पी ही सभी कुकर्मों की जननी है...।
    आइए, चुप रह कर हम भी इस कुकर्म में सहभागी बनें।

    देखिए थूकने की कोशिश भी मत करिएगा।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सोचा था सारी पुरानी कविताएं पढ़ जाउंगा आज आपकी ! पर अब इसके बाद नहीं !
    कभी सोचते नहीं आप कि टिप्पणी क्यों नहीं कर रहा मैं... कभी टोंका करें श्रद्धेय !

    उत्तर देंहटाएं