रविवार, 14 मार्च 2010

मुंडेर पर अब कोई कबूतर नहीं

बन्द कर दिया लेटर बॉक्स का द्वार

तोड़ डाले सब मोबाइल,

मिटा दिए सब ई मेल पते...

ठहरे आँसू

टपके आज

तुम्हारे जाने के बाद ...

बहुत दिनों के बाद।

बरसे आँसू

बहुत दिनों के बाद

मुंडेर धुली

बहुत दिनों के बाद।

18 टिप्‍पणियां:

  1. वाह ये धुली धुली मुंडेर तो जाने क्या क्या कह गई ..बहुत सुंदर
    अजय कुमार झा

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छी है! मगर आपसे ज़्यादा की उम्मीद होती है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. ई मेल द्वारा टिप्पणी:

    लेटर बॉक्स , ईमेल पते , मोबाइल ...
    और जो सन्देश इनके बिना ही पहुंचे ....
    दिल से दिल के तार बेतार जुड़े
    मन की काई सब मिट गयी जो मुंडेर धुले ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. @ पलीता विशेषज्ञ अदा जी ...
    क्या गौर करने को कह रही है ....कविता है ...सिर्फ कविता ....और पाठक/पाठिका का कविता को देखने का नजरिया ....समझी

    उत्तर देंहटाएं
  5. ठहरे आँसू

    टपके आज

    तुम्हारे जाने के बाद ...
    " बेहद भावुक पंक्तियाँ.."
    regards

    उत्तर देंहटाएं
  6. कविता पढ़ कर संजीदा हो गया था और अरविन्द मिश्र जी का कमेन्ट पढ़ कर विलयन कुछ इस तरह का बना है कि कहने को बन नहीं रहा.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत दिनों के बाद
    मुंडेर धुली
    बहुत दिनों के बाद।
    क्या प्रतीक दिया है. बेहतरीन

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेहतरीन शब्दों की संरचना..सुंदर भाव बधाई!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. तोड़ डाले सब मोबाइल,

    मिटा दिए सब ई मेल पते..

    बिलकुल नये बिम्ब हैं यह ..मज़ा आ गया ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. ठहरा हुआ बाँध टूटा है तो एक-दो गाँव तो वैसे ही बह जायेंगे !

    उत्तर देंहटाएं
  11. मुंडेर यूँ नहीं धुलती...जब तक संवेदना की दबी नसें फूट नहीं जाती.
    ..बेहतरीन कविता के लिए बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  12. संवेदना तो खूब भरी है आपमें !
    यह जो शीर्षक पंक्ति है, वह मुझे कविता में चाहिए कहीं !

    उत्तर देंहटाएं