गुरुवार, 13 मई 2010

धुत्त ! ऐसे ही।

प्रात समय
किरणें झूमें गली गली
हरसिंगार झर झर झर झर
बन्द आँखें तुलसी के बिरवा
खुले केश छू लूँ?
धुत्त !
सुनो कुकर की सीटी
..गैस धीमी कर दो।

साँझ हुई
कर्मठ बिजली बिखेरे
चाँदी सोना गली गली
आँचल ढका मस्तक
लौ लगाती दीप बाती
लाइट बुझा दूँ  ?
धुत्त !
देवता द्वार से लौट जाएँगे।

18 टिप्‍पणियां:

  1. देवताओं को तो लौटाना नहीं है और ये गैस निगोड़ी --
    बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  2. बाबा रे.... एक छोटी सी कविता क्या क्या भाव मन में पैदा कर जाती है........

    उत्तर देंहटाएं
  3. ऐसी धुत्त परिस्थितियाँ जीवन को भूत बना देती हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सबका यही हाल है भिडू :)

    एकदम मन से लिखी कविता है....

    उत्तर देंहटाएं
  5. ऐसी कवितायें रोज रोज पढने को नहीं मिलती...इतनी भावपूर्ण कवितायें लिखने के लिए आप को बधाई...शब्द शब्द दिल में उतर गयी.

    उत्तर देंहटाएं
  6. और ब्लॉगरी करते समय नहीं धुतियाये जाते?
    बहुत ख़ूब!

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह...बिलकुल नया अंदाज़! अच्छा लगा!

    उत्तर देंहटाएं
  8. धुत्त मुझे तो डाउट है कि जो द्वार पर हैं देवता ही हैं ... जाना है तो जाएँ !

    उत्तर देंहटाएं
  9. संस्कारों की जकड़न और निसर्ग की फडकन ....सुन्दर अभिव्यक्ति !

    उत्तर देंहटाएं
  10. कुकर को एक झटके में कुक्कुर पढ गया !
    डिसलेक्सिया !!!!!!!!!! दुबारा पढ़ा तो कुछ मतलब साफ हुआ !
    कविता अच्छी है !

    उत्तर देंहटाएं
  11. ऐसा सर्जन करने वाला हमारे बीच है...निहाल हैं भईया हम तो !
    अरविन्द जी की टिप्पणी हम कर सकते हैं क्या..."संस्कारों की जकड़न और निसर्ग की फडकन ...."!

    जबरदस्त !

    उत्तर देंहटाएं