रविवार, 21 फ़रवरी 2010

...फाग आग आँच

.. फाग आग आँच
नरम हुई कड़ियाँ
- फिर टूटीं।

पसर गया प्रेम
शब्द शब्द आखर आखर।
... तूने क्या, कैसे, क्यों बाँध रखा था ?

15 टिप्‍पणियां:

  1. कर गई मस्त मुझे फागुन की हवा,
    मैं लगा झूमने, मुझे ये क्या होने लगा...

    (गिरिजेश भाई, घबराइए नहीं अभी भांग नहीं चढ़ाई है...)

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  2. फ़ागुन का रंग चढ़ने लगा है, क्यों बाँध रखा था? सोच रहे हैं..!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. पूछते हो क्यों ऐसा सवाल
    जवाब जिसका

    तुम्हें ही मालूम है
    शायद
    सिर्फ़ तुम्हें

    बड़े लंठ हो जी...

    उत्तर देंहटाएं
  4. फाग आग आँच
    पसर गया प्रेम
    तो प्रश्न क्यों!
    नाच.

    उत्तर देंहटाएं
  5. पसर गया प्रेम ....वाह ...
    तभी फूटी फाग वाणी बड़े दिनों बाद ...:)
    वाणी के स्थान पर कोई उपयुक्त समानार्थी शब्द सुझाएँ ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. '' .. फाग आग आँच
    नरम हुई कड़ियाँ
    - फिर टूटीं।''
    ------- आचारज को पता था कि नरम कड़ियाँ
    तो टूटेंगी ही , पर इस तरह !
    .
    '' पसर गया प्रेम
    शब्द शब्द आखर आखर।
    ... तूने क्या, कैसे, क्यों बाँध रखा था ?''
    ---------- इतना भी लजाना शोभा नहीं देता आप से
    बाऊ-बौद्धिकों को ! बंधन खुला , आनंदार्द्र हुए फिर 'तर्क' क्यों !
    .
    जयशंकर प्रसाद की तरह मैं भी कह
    रहा हूँ ---- '' बिखरी अलकें ज्यों तर्क-जाल ''
    .
    छह ठो लाइन में कमाल किये हो बाऊ !

    उत्तर देंहटाएं
  7. किसने बांध रखा था सब झूंठ है कहने की बात

    उत्तर देंहटाएं
  8. अरे बहुत बांध रखा है हमने... कहाँ टूटता है. प्रेम का बंधन भी तो है भाई, क्यों?

    उत्तर देंहटाएं
  9. क्या, कैसे का मामला नहीं, क्यों का तो बनता ही है ।
    यही तो है आपकी पहचान ! निपट अकेली !

    उत्तर देंहटाएं