मंगलवार, 23 अप्रैल 2013

कहना

वो जीने को काम तमाम कहना
मैं सुबह कहूँ तो शाम कहना
खुश होना और बहुते खराब कहना
थे सलामी को राजी वे पहली नज़र
मैंने देरी से जाना आदाब कहना! 

6 टिप्‍पणियां: