शनिवार, 18 मई 2013

ऐसे भी


चिपके केश स्वेद सने ललाट पर
उठी चुम्बन चाहना अ-काम
झिझका ठिठका सकाम सोच
तुम क्या कहोगी, लोग क्या कहेंगे
उमगा क्षार नयन द्वार टपकी बूँदें
कपोलों को ऐसे भी भीगना था -
अवशता पर! 

3 टिप्‍पणियां:

  1. भावों को बांध न सके तो बाँध टूटते हैं!
    सिमित शब्दों में भावों को समेट लिया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. लोग क्या कहेंगे, लोग क्यों कहेंगे, लोग कहते रहें।

    उत्तर देंहटाएं