बुधवार, 9 जनवरी 2013

शांती बेवस्था बनाये रखिये।

शांती बेवस्था बनाये रखिये। 
"घुसपैठ भई तो सेना क्या कर रही थी?"खबीश को ये पूछने दीजिये। 
मने कि लाख टके का कोश्चन है, करने दीजिये।
खुद अपने को भूलने दीजिये।
मूड़ काटने वाले को काटने दीजिये। 
लैनतोड़वा को आगे से टीकस लेने दीजिये। 
घूस देते रहिये, काम चलाते रहिये।
मौका मिलने पर कमरा ओढ़ घीव पीते रहिये। 
परधान को सब ठीक है कहने दीजिये।
उनको फिर फिर गद्दी बैठाते रहिये 
और बेवस्था को गरियाते रहिये। 
शांती बेवस्था बनाये रखिये!

3 टिप्‍पणियां:



  1. ✿♥❀♥❁•*¨✿❀❁•*¨✫♥
    ♥सादर वंदे मातरम् !♥
    ♥✫¨*•❁❀✿¨*•❁♥❀♥✿


    ~ शांती बेवस्था बनाये रखिये...

    आपने भी कहां निशाना साधा है
    आदरणीय गिरिजेश राव जी !
    चिंतनीय !!

    ~ उनको फिर फिर गद्दी बैठाते रहिये
    यहां नासमझों को समझ आ जाए तो सुधार और स्वाभिमान की प्रक्रिया शुरू हो सके...
    # वोट देने वालों को नींद और नशे से निकल कर राष्ट्र-हित में जाग्रत होने की सर्वाधिक आवश्यकता है ...

    हार्दिक मंगलकामनाएं …
    लोहड़ी एवं मकर संक्रांति के शुभ अवसर पर !

    राजेन्द्र स्वर्णकार
    ✿◥◤✿✿◥◤✿◥◤✿✿◥◤✿◥◤✿✿◥◤✿◥◤✿✿◥◤✿

    उत्तर देंहटाएं
  2. शांती बेवस्था बनाये रखिये!achcha vyang.....

    उत्तर देंहटाएं