शुक्रवार, 21 सितंबर 2012

इधर से कभी उधर से कभी।


हुये थे विदा इस शहर से कभी
उनकी गलियाँ पुकारें इधर से कभी उधर से कभी।

अटकी थीं सांसें बिछड़ने के बाद
अब छूटे हैं जानिब इधर से कभी उधर से कभी।

झुकी हैं दो नज़रें न रुकते हैं आँसू
टपकती हैं बूंदें इधर से कभी उधर से कभी!

सराहें तो कैसे कोई मूरत नहीं
खींच लेते हैं पल्लू इधर से कभी उधर से कभी।

बात कहने की नहीं समझने की है
जुबां अटके है रह रह इधर से कभी उधर से कभी।

उठते हैं कहकहे एक साथ गलों में
ठिठकते मुस्कुरा के उन पर कभी इन पर कभी।

यूं ही बढ़े हैं इशक़ की गली
भटकन जुड़े है इधर से कभी उधर से कभी।
~*~*~*~*~*~*~
(दिल्ली, जयपुर: 20/21-09-2012)  

7 टिप्‍पणियां:

  1. **हुए थे।
    सुंदर!
    नये लैपटॊप के लिए बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  2. निहार रहे हैं रचना की खूबसूरती
    आह वाह निकल रही है इधर से कभी उधर से कभी

    उत्तर देंहटाएं
  3. भटकना हुआ था, लटकना हुआ था,
    इधर से कभी, उधर से कभी ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. ये जिंदगी के कारवां हैं
    कभी इधर और कभी उधर ||

    उत्तर देंहटाएं
  5. अति सुन्दर कविता ,गिरजेश जी नए लैपटॉप की शुभकामनाये,आप हम सभी को मार्गदर्शन करते रहें -आजाद सिंह

    उत्तर देंहटाएं