शनिवार, 14 मई 2011

शिकायत




रोना नहीं आता उन्हें आब-ए-चश्म देख
हुज़ूर को है शिकायत आँखें सलामत क्यों हैं। 

शब्दार्थ : आब-ए-चश्म - आँसू
'हुज़ूर' वर्तनी शोधन आभार - वाणी शर्मा   

3 टिप्‍पणियां:

  1. हुजुर : हुज़ूर
    सही शब्द कौन सा है ??

    उत्तर देंहटाएं
  2. हर जगह किस्सा यही हो,
    मन बेचारा क्या करे।

    उत्तर देंहटाएं
  3. आँखों का सलामत रहना भी खटकता है?
    जी, यह तो मैंने भी देखा है।

    उत्तर देंहटाएं