मंगलवार, 3 जुलाई 2012

बादल रो!

बादल रो!
उद्धत यौवन आँच धरा, छुये पवन चल रही लू
सृजन भाव हिय में भरा, तप्त साँस ले रही भू।

बादल रो!
बीते युग बरस सरस के, वारि कामना रही शेष
दृग जल या मीठी झँकोर, नमी नहीं अब मीन मेख।

बादल रो!
उलझे राम मार्ग चयन में, रावण के शोध अभिषेक
अट्टहास हैं कंठ शुष्क, वारुणि वारि वृथा अतिरेक।

बादल रो!

5 टिप्‍पणियां:

  1. बादल रो!
    अबतक तू बरसा करता था, जब जग यूँ तरसा करता था
    अब देखो कवि रोष भरा, जाकर पुनि - पुनि पग धो ।

    बरबस बरस सरस आतप हर, परस हरष सबजन के मुखपर
    है दग्ध धरा पर व्यग्र कृषक कैसे पाये कुछ बो, बादल रो।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बादलों ने सुन लिया, हहर पड़े आचार्य!

    उत्तर देंहटाएं