सोमवार, 4 अक्तूबर 2010

तनहा शीशम


झड़ता शीशम ओस भीगे 
पत्ते उड़े धूप सहारे 
आँगन मेरा भर गए 
मन चमन कर गए। 

दूर किनारे घर तुम्हारा 
बीच के सब गेह लाँघ 
क्यों मेरी छ्त पसर गए?
मन चमन कर गए। 

बाग तुम्हारे तनहा शीशम 
पतझड़ में ज्यों ठूँठ शीशम 
नेह पल बिखरे शीशम
प्रार्थना हम कर गए
मन चमन कर गए। 

आज भी तनहा है शीशम
आज भी पतझड़ है शीशम  
आज भी ठूँठा है शीशम 
पत्ते सर सर रह गए
आँख भर भर तर गए।

हिमदेश में तुम कह गए  
मन भाव सब बस जम गए। 


10 टिप्‍पणियां:

  1. आज भी तनहा है शीशम
    आज भी पतझड़ है शीशम
    आज भी ठूँठा है शीशम
    पत्ते सर सर रह गए
    आँख भर भर तर गए।

    हिमदेश में तुम कह गए
    मन भाव सब बस जम गए।

    ....सुन्दर !

    जवाब देंहटाएं
  2. दूर किनारे घर तुम्हारा
    बीच के सब गेह लाँघ
    क्यों मेरी छ्त पसर गए?

    मन चमन करना था न! अति सुन्दर!

    जवाब देंहटाएं
  3. कभी कभी कठोर काठवत जैसे भी कितने तनहा हो जाते हैं।

    जवाब देंहटाएं
  4. आज भी तनहा है शीशम
    आज भी पतझड़ है शीशम
    आज भी ठूँठा है शीशम
    पत्ते सर सर रह गए
    आँख भर भर तर गए।
    वक्त किसी को भी नही बख्शता। दिल को छू गयी आपकी रचना। धन्यवाद। कृप्या यहाँ जरूर देखे
    http://veeranchalgatha.blogspot.com/

    जवाब देंहटाएं
  5. तन्हा शीशम जैसी ही इंसान की भी नीयति है ...
    विचारणीय स्थिति ..

    जवाब देंहटाएं
  6. हम वह शीशम नहीं देख पाए थे !
    पर अनुभव कर रहे हैं ! सूखी पत्तियाँ दूर तक उड़ कर गयी हैं ! दूर तक जाने के लिए सूखना जरूरी है , हरे पत्ते तो पेड़ से लगे रहते हैं , उड़ते कहाँ हैं !!

    जवाब देंहटाएं
  7. achha laga..........

    sheesham par bhi likh diya.....jise tiraskrit hi rakha gaya hai.......

    जवाब देंहटाएं
  8. पत्ते सर सर रह गए
    आँख भर भर तर गए।

    अब और क्या कहूं...

    जवाब देंहटाएं